December 26, 2016

हर नक़्श-ए-पा बुलंद है दीवार की तरह

Himanshu Bajpai   मेरे दोस्त, मेरे हमदम, मेरे मोहसिन, मेरे करमफ़रमा, अभिषेक शुक्ला का एक मज़मून इन दिनों इन्टरनेट पर धूम मचा रहा है. ये मज़मून […]
December 23, 2016

Not To Have a Plan

Tasveer Hasan   I’ve found myself falling in love with unfamiliarity too often. I hate routine. I crave for new beginnings every once in a while. […]
November 10, 2016

The Sense of an Ending

Aditi Yadav Some stories leave behind a desiccating vacuum hanging on the palate and brooding lump in the throat, as the mind meditatively compares your own […]
September 8, 2016

साहिर लुधियानवी का एक दुर्लभ इंटरव्यू

फिल्मी और अदबी दोनो तरह की शायरी में मुहज़्ज़ब मकाम रखने वाले मशहूर शायर साहिर लुधियानवी से १९६८ में  उर्दू के एक दूसरे बड़े शायर नरेश […]
September 8, 2016

बेवजह यात्रा: फुटकर यादें

Saurabh Srivastav   रानीखेत से कुछ दूर जंगलों से गुजरते हुए इस बात का अहसास हुआ कि जंगल कितना भी घना क्यों न हो एक पतली […]