September 8, 2016

Rumblings from the Rubble

Aditi Yadav Life is silly. All of it has to do with dying eventually. I mean look at your younger self. The four year old bundle […]
September 8, 2016

अभिनेता और उसकी हैट

Masto इस ज़िदगी के मंच में मैं अभिनेता ठीक-ठाक हूँ, बस जिस किरदार में हूँ उसमें मेरे सिर पर एक हैट है और मेरी हैट मेरे […]
September 8, 2016

A Weekend Story

Aditi Yadav   In these ‘liquid times’ of the ‘runway world’, kids are challenging your “grown-up”ness like never before. Often, parents give up on the unwieldy […]
September 8, 2016

शकुंतला और जूलिएट

Skand Shukla शकुन्तला का अन्त तो बहुत पहले हो गया था , अब जूलियट भी लुप्तप्राय है। जिन्होंने तब शकुन्तला को मार डाला था , वे […]
September 8, 2016

मिस्तरी पर भी लिखा जा सकता है क्या ?

Himanshu Bajpai पुराने लखनऊ में सिटी स्टेशन के पास एक छोटी सी गुमटी है, जहां स्कूटर मोटरसाइकिल वगैरह ठीक होती है. ये गुमटी जिन मिस्तरी साहब […]