November 10, 2016

The Sense of an Ending

Aditi Yadav Some stories leave behind a desiccating vacuum hanging on the palate and brooding lump in the throat, as the mind meditatively compares your own […]
September 8, 2016

साहिर लुधियानवी का एक दुर्लभ इंटरव्यू

फिल्मी और अदबी दोनो तरह की शायरी में मुहज़्ज़ब मकाम रखने वाले मशहूर शायर साहिर लुधियानवी से १९६८ में  उर्दू के एक दूसरे बड़े शायर नरेश […]
September 8, 2016

बेवजह यात्रा: फुटकर यादें

Saurabh Srivastav   रानीखेत से कुछ दूर जंगलों से गुजरते हुए इस बात का अहसास हुआ कि जंगल कितना भी घना क्यों न हो एक पतली […]
September 8, 2016

Rumblings from the Rubble

Aditi Yadav Life is silly. All of it has to do with dying eventually. I mean look at your younger self. The four year old bundle […]
September 8, 2016

अभिनेता और उसकी हैट

Masto इस ज़िदगी के मंच में मैं अभिनेता ठीक-ठाक हूँ, बस जिस किरदार में हूँ उसमें मेरे सिर पर एक हैट है और मेरी हैट मेरे […]